पड़ोसन के साथ मजे

उस दिन १ बजे से ४ बजे तक भाभी को दो बार चोदा,

मैंने पूछा- भाभी सच बताना तुम्हारा देवर चोदने में कैसा है?तो बोलीं- टचवुड ! बहुत अच्छा। मैंने कहा- अच्छा भाभी एक बात और बताओ, कभी गांड मराई है? बोली- नहीं ! कभी नहीं ! शुरू शुरू में एक दो बार डॉक्टर साहब ने मारनी चाही थी लेकिन उनका लंड गांड में घुसा ही नहीं !

मैंने कहा- भाभी मैं तुम्हारी गांड मारूंगा, मराओगी ? बोलीं- हाँ मेरे राजा ! जरूर मराउंगी।

फ़िर भाभी ने रोटियां सेंकी, हम दोनों ने साथ साथ नंगे ही बैठ कर खाना खाया और फिर से एक बार बिस्तर पर जा कर मस्त सेक्स की उस के बाद भाभी अपने घर चली गईं।